धर्म के सहारे समाज को निर्देशित किया गया (प्रथम भाग)


       प्राचीनकाल में जब शिक्षा का प्रचार प्रसार नहीं था, सामाजिक नियन्त्रण के लिए अशिक्षित लोगों को धर्मों के माध्यम से अपना सन्देश आम जनता तक पहुँचाया जाता था .धर्म से जुड़ने वाले लोगों के स्वास्थ्य को बनाये रखने के लिए भी विभिन्न उपायों को धर्म का रूप देकर आम जनता में लोकप्रिय बनाया गया। ये उपाय या सन्देश आज भी उतने ही प्रासंगिक हैं जितने कभी हजारों वर्ष पूर्व होते थे.परन्तु हम उनके कारणों को भूल चुके हैं और सिर्फ धर्म का आदेश समझ कर उन्हें अपनाते रहते हैं. प्रस्तुत हैं कुछ ऐसे ही कुछ धार्मिक महत्त्व के क्रिया कलाप जो हमारे स्वास्थ्य के लिए लाभकारी हैं. इस अध्याय में सिर्फ वे नियम अध्ययन के लिए चुन रहे हैं जो मानव हित में आज भी समय की कसौटी पर खरे उतरते हैं, जिन्हें तार्किक रूप से समझना और उसके पीछे छिपे उद्देश्य को पहचानना  आवश्यक है.

गंगा स्नान से पापों से मुक्ति

     प्राचीन काल से ही शास्त्रों द्वारा गंगा में स्नान करना सभी पापों की मुक्ति का मार्ग बताया गया है. वैज्ञानिक शोधों  से ज्ञात हुआ है,गंगा में स्नान वास्तव में मानव स्वास्थ्य के लिए लाभप्रद है। गंगा जल जो गंगोतरी से आता है, उसके अवतरण के दौरान गंगा जल किसी ऐसी चट्टान से गुजरता है, जिसमें अनेक ऐसे रासायनिक तत्व मौजूद हैं, जो मानव को अनेक त्वचा रोगों और पेट के रोगों से मुक्ति दिलाने में आज भी सक्षम है।

गंगा स्नान

         परन्तु गंगा जैसे-जैसे मैदानों में उतरकर आगे बढ़ती है इसमें विभिन्न कल कारखानों   का कचरा अथवा रासायनिक द्रव और विभिन्न बस्तियों से मलमूत्र विसर्जित किया जाता है, जिसने गंगा जैसी पवित्र नदी के जल को पूर्णतया प्रदूषित कर दिया है। गंगा नदी एक गंदे नाले के रूप में बदलने लगी है। अतः इस हालत में प्रदूषित जल में स्नान करना और पीना स्वास्थ्य कर नहीं हो सकता। शायद आगे चलकर तो इसे छूना भी अपने को संक्रमित कर लेना होगा। अतः यदि प्रकृति के इस अनमोल तोहफे का लाभ लेना है तो सिर्फ आस्था मात्र से लाभ नहीं चलेगा। प्रत्येक आस्थावान और सचेत व्यकित को गंगा को अशुद्ध करने वाले कारकों से जूझना पड़ेगा और स्वयं भी इस जल को प्रदूषित न करने का संकल्प लेना होगा।

     किसी नदी में स्नान करने का अर्थ है, प्रकृति की गोद में स्नान करना अर्थात  प्रकृति के पांचों तत्वों का यानि अग्नि, पृथ्वी वायू, जल और आकाश से मिलन होना जिसे प्राकृतिक चिकित्सा में महत्वपूर्ण माना गया है। परन्तु यदि नदी गंगा हो तो स्नानार्थी को अतिरिक्त स्वास्थ्य लाभ मिलता है. यदि गंगा नदी को प्रदूषित होने से बचा लिया जाय, गंगा में स्नान की आस्था आज भी समान रूप से महत्वपूर्ण है जितना प्राचीन काल में थी.

तुलसी को देवी रूप में पूजा जाता है

तुलसी

     हिन्दू धर्म की मान्यता के अनुसार प्रत्येक घर में तुलसी का होना शुभ माना जाता है और सुबह-शाम इसकी पूजा अर्चना का भी विधान है। वैज्ञानिकों ने जब इस मान्यता का अध्ययन किया तो उन्हें चौकाने वाले परिणाम मिले। तुलसी का पौधा इतनी ऑक्सीजन उत्सर्जित करता है जिससे पूरे परिवार की ऑक्सीजन आवश्यकताएं पूर्ण होती हैं और आसपास का वातावरण भी शुद्ध होता है। यह हमारे पूर्वजों की एक नायाब खोज है। जो मानव स्वास्थ्य के लिए वरदान है। सवेरे शाम पूजा अर्चना का अर्थ है हम उसके सानिध्य से अधिक ऑक्सीजन ग्रहण कर सकें। एक और चमत्कार इस पौधे में है यह विद्युत का सुचालक होता है तथा आसमान में उपस्थित तड़ित विद्युत भवन पर नहीं गिरती, बल्कि तुलसी के पौधे के माध्यम से पृथ्वी में समा जाती है और भवन को विद्युत से हानि नहीं होती। तुलसी के पत्ते के बीज अनेक रोगों से मुक्ति दिला सकते हैं। तुलसी के पत्तों का एक निश्चित मात्रा में नियमित सेवन इंसान के शरीर में रोगों से लड़ने की क्षमता बढ़ाता है। चरणामृत में तुलसी का प्रयोग इसी कारण से बताया गया है। तुलसी से चिकित्सा एक गहन विषय है। अतः वर्तमान युग में भी तुलसी के महत्व को अस्वीकार नहीं किया जा सकता। जिसे ऋषि मुनियों ने धार्मिक आस्था का विषय बनाकर अपरोक्ष रूप से मानव को स्वस्थ रहने का मार्ग उपलब्ध करा दिया। जब इंसान को तुलसी के उपयोग से लाभ होगा तो उसकी आस्था उसकी पूजा-अर्चना में दृढ़ होती है और धर्म संचालकों को अपने उद्देश्य में सफलता प्राप्त होती है। समाज की सेवा का संतोष लाभ भी प्राप्त होता है।

Advertisements

एक उत्तर दें

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s