कानून मंत्री श्री रविशंकर प्रसाद जी से निवेदन

श्रीमान जी, आज देश के आम नागरिकसमेत कोई भी बड़े से बड़ा नेता देश के प्रधान मंत्री को अपमान जनक तरीके से कुछ भीबोल देता है. राजनीतिक प्रतिद्वंद्विता एक अलग विषय है पार्टियों के कार्यकर्त्ताया नेता अपनी बात रखने के लिए स्वतन्त्र हो सकते हैं, परन्तु देश के प्रधान मंत्रीके लिए अपशब्द का प्रयोग सर्वथा … More कानून मंत्री श्री रविशंकर प्रसाद जी से निवेदन

शर्मनाक राजनीति

{रिज़र्व बैंक के  गवर्नर रहे वाई. वी. रेड्डी की पुस्तक ‘ADVISE AND DECENT’ से कुछ अंश साभार प्रस्तुत हैं} 1991 में कांग्रेस के शासनकाल में, मात्र 40 करोड़ रुपए के लिए  47 टन सोना गिरवी! मुझे स्मरण है, 90 के शुरुआती दशक में भारतीय अर्थव्यवस्था को वह दिन भी देखना पड़ा, जब उसे अपना सोना … More शर्मनाक राजनीति