सपनों का गणतंत्र क्यों बन रहा विडंबनाओं का गणतंत्र?

       हमारे देश को गणतंत्र की राह पर चलने से पहले स्वतंत्र होना पड़ा। और यह स्वतंत्रता हमें इतनी भी आसानी से नहीं मिली जितनी की साल में दो दिन छब्बीस जनवरी और पन्द्रह अगस्त पर हम फेसबुक की प्रोफाइल पिक्चर को तीन रंगों में रंगकर अपनी राष्ट्रभक्ति का सार्वजनिक प्रदर्शन कर अपने … More सपनों का गणतंत्र क्यों बन रहा विडंबनाओं का गणतंत्र?

कुछ विचारणीय विषय

 कलाकारों की फीस जनता के साथ अन्याय समाचार पत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार बड़े बड़े एक्टर, टीवी. चैनल  पर एक एपिसोड में अपना किरदार निभाने के करोड़ों रूपए अपने पारिश्रमिक के रूप में वसूलते हैं. इसी प्रकार विज्ञापन के लिए भी लाखों में फीस वसूल करते है. जबकि एक उद्योगपति के लिए अरबों रूपए … More कुछ विचारणीय विषय

मोदी जी का ही समर्थन क्यों किया जाय ?

       आज मोदी जी के विरुद्ध विपक्षी दलों की पूरी लौबी पड़ चुकी है और मनगढ़ंत बैटन से जनता को भ्रमित करने के लिए भरसक प्रयास में लगे हैं क्योंकि उन्हें सत्ता चाहिए उन्हें जनता और देश हित से कोई मतलब नहीं है.आज हमारे देश की जनता में बहुत लोग विद्यमान हैं जिनके … More मोदी जी का ही समर्थन क्यों किया जाय ?

स्वतंत्रता दिवस पर एक संकल्प आवश्यक

    {आजादी की लड़ाई सिर्फ सीमा पर खड़े होकर गोली खाना ही नहीं है, बल्कि अपने स्तर पर छोटे-छोटे बदलाव करना भी है। आईये ! इस स्वतंत्रता दिवस पर यह संकल्प लें कि हम इस वतन को घर की तरह मानकर इसके उत्थान के  लिए सदैव तत्पर रहेंगे। चलते-चलते, अंधा बेटा युद्ध पे चला … More स्वतंत्रता दिवस पर एक संकल्प आवश्यक