छुआ छूत और जात पात ने ही हिन्दू धर्म के अस्तित्व के लिए खतरा पैदा किया.

     हिन्दुओं में हजारों वर्षों से छुआ-छूत अर्थात जात-पात की कुप्रथा चली आ रही थी.जिसे बाबा साहेब भीम राव आंबेडकर के प्रयासों से संविधान के माध्यम से विराम लगा दिया गया. जिसने एक तरफ हजारों वर्षों से जुल्मों का शिकार बनते आ रहे पद-दलित और शोषित जाति वर्ग को सम्मान से जीने का अवसर प्राप्त … More छुआ छूत और जात पात ने ही हिन्दू धर्म के अस्तित्व के लिए खतरा पैदा किया.

पूर्वोदय मिशन” से,स्थानीय उद्योगों को मिलेगा प्रोत्साहन

     प्रेषक —–घनश्यामदासवैष्णव बैरागी- भिलाई  (छत्तीसगढ़) भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के पूर्वी क्षेत्र की समृद्धि और विकास के लिए 2018 में एक दूरदर्शी पहल करते हुए “पूर्वोदय मिशन” का आह्वान किया था। पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस तथा इस्पात मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान ने इस मिशन को आगे बढ़ाते हुए 11 जनवरी 2020 को कोलकाता … More पूर्वोदय मिशन” से,स्थानीय उद्योगों को मिलेगा प्रोत्साहन

हताश विपक्षी दल

     2019 में लोकसभा के आम चुनाव संपन्न हुए,तब सभी विपक्षी दल अपनी संभावित हार को छुपाने के लिए चुनाव आयोग के पास चले गए और चुनावों में निष्पक्षता पर संदेह व्यक्त किया, वोटिंग मशीन पर अविश्वास व्यक्त किया और गड़बड़ी की आशंका व्यक्त की, परन्तु चुनाव आयोग ने कराये गए निष्पक्ष चुनाव के लिए … More हताश विपक्षी दल

व्यापारी या निजी कारोबारी उपेक्षित क्यों ?

    व्यापारी या निजी कारोबारी देश की अर्थवयवस्था की रीढ़ होता है,सर्व समाज का पोषक होता है, बेरोजगार- जिसे कहीं भी रोजगार नहीं मिलता उसके लिए रोजगार के अवसर उपलब्ध कराता है. फिर भी समाज में इसे कभी सम्मान नहीं दिया जाता. अधिकतर शिक्षा ग्रहण कर रहे छात्रों की पसंद इंजिनियर, डॉक्टर, वकील, सी.ऐ., साइंटिस्ट, … More व्यापारी या निजी कारोबारी उपेक्षित क्यों ?

खाद्य पदार्थों को भी नियंत्रित करें मोदी जी.

भा.ज.पा. के सत्ता में आने के पश्चात् मोदी सरकार ने जनता के स्वास्थ्य की रक्षा के लिए बहुत सारे कार्य किये हैं.जैसे सरकारी अस्पतालों का उचित रख-रखाव, दवा मूल्यों पर प्रभावी नियंत्रण के लिय प्रधान मंत्री औषधि केन्द्रों की व्यवस्था, दवा निर्माताओं पर अंकुश लगते हुए मुख्य जीवन रक्षक दवाईयों एवं उपकरणों की कीमतों पर … More खाद्य पदार्थों को भी नियंत्रित करें मोदी जी.

जीवन का स्वर्णिम अध्याय है, चालीस और पचपन के मध्य की आयु

       यदि आप चालीस और पचपन आयु वर्ग में आते हैं तो आप एक स्वर्णिम आयु वर्ग में हैं और आपको इस सुनहरे अवसर का भरपूर आनंद उठाना चाहिए. अब जानते हैं ऐसा क्यों?              बाल्यावस्था–जब इन्सान जन्म लेता है तो उसे दुनिया की कोई जानकारी नहीं होती उसे चलना, फिरना, बोलना, खाना, पढना-लिखना, समझना, … More जीवन का स्वर्णिम अध्याय है, चालीस और पचपन के मध्य की आयु

भाई-बहन का प्यार है आज—ढेरों शुभकामनाएँ।।

प्रेषक एवं रचनाकार —-घनश्यामदास वैष्णव बैरागी (Ghanshyam G. Bairagi)  भाई दूज का त्यौहार   एक मिलन की चाहबहन की,ऐसा प्यार कभी न देखा।भाई-दूज पर्व है आया,देखो सैकड़ों खुशियाँ लाया।।भाई के घर बहन आई,दूध-मलाई बरफी लाई।मां-बाप ने देखे सपने,बच्चे हमारे साथ हों अपने।।आज दिखी है वही बानगी।भाई-दूज,दिन शुभ है आ गयी।।बंधे धागे एककच्चे-पक्के सब,बुढ़े-बच्चे सबरंग अनेक।खुशियाँ … More भाई-बहन का प्यार है आज—ढेरों शुभकामनाएँ।।

गणेश शंकर ‘विद्यार्थी’ के जन्म दिवस के अवसर पर

प्रेषक -एवं लेखक —प्रदीप कुमार सिंह कलम वह शक्तिशाली हथियार है जिसकी ताकत से विश्व को बदला जा सकता है!लोकतंत्र के चैथे स्तम्भ पत्रकारिता जगत के बन्धुओं को वैश्विक लोकतांत्रिक व्यवस्था (विश्व संसद) के गठन का संकल्प आज के महान दिवस पर लेना चाहिए!- विश्वात्मा भरत गांधी ब्रिटिश शासन के विरूद्ध पीड़ितों और गरीब किसानों … More गणेश शंकर ‘विद्यार्थी’ के जन्म दिवस के अवसर पर